Home / स्वास्थय / आयुर्वेद में अनार का उपयोग

आयुर्वेद में अनार का उपयोग

1 दांत मजबूत – अनार के फूल छाया में सुखाकर बारीक़ करके मलने से खून बंद और दन्त मजबूत होते है

2 पीलिया – मीठे अनार के दानो का रास ५० ग्राम रात को लोहे के बर्तन में करके छत पर रख दे/ सुबह थोड़ी कुंजा मिश्री मिलाकर 20-25 दिन खाए. कमलबाय पक्का ठीक होग. खटाई का परहेज करे.

3 – खांसी – मीठे अनार का छिलका 20 ग्राम, लाहौरी 3 ग्राम बारीक़ करके पानी में में 1 ग्राम की गोलियां बनाये , दिन में 3 बार गोलियां चूसें। खटाई का परहेज करे, खांसी ठीक हो जाएगी

4 – अनार का छिलका बारीक़ करके 4 ग्राम ताजे पानी के साथ दिन में दो बार खाने से पेशाब बार-बार आना ठीक होता है

loading...

Check Also

अगर आप भी डायबिटीज से है परेशान तो जानिये क्या खाये और क्या नहीं

आज के समय में डायबिटीज होना कोई बड़ी बात है नहीं रिसर्च के मुताबिक 100 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *