Home / वास्तु / धन रखने का शुभ स्थान

धन रखने का शुभ स्थान

कई बार हम बहुत मेहनत करते है, हमें मौके भी अच्छे मिलते है लेकिन पर्याप्त सफलता नहीं मिल पाती है। धन आता तो है लेकिन टिकता बिलकुल भी नहीं है । हो सकता है हमारे घर, व्यापारिक स्थल की तिजोरी रखने के स्थान में दोष हो ।।

जी हाँ यह सही भी हो सकता है मात्र इसी कारण से हमें आर्थिक दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा हो।  हर घर में तिजोरी अथवा धन रखने का एक खास स्थान या अलमारी आदि अवश्य ही होता है। अगर वह तिजोरी अथवा अलमारी सही जगह हो, कुछ छोटी छोटी बातों का ध्यान रखा जाय तो उस घर में निश्चित ही धन दिन दुनी-रात चौगुनी गति से बढ़ता रहता है। निवास स्थान के उत्तरी हिस्से में कुबेर का स्थान होता है इसी कारण तिजोरी रखने का कमरा भी उत्तरी हिस्से में रखना ही श्रेष्ठ है। यदि अलमारी में धन रखना हो तो उसके मध्य भाग में या ऊपर के भाग में तिजोरी बनाना उचित रहता है।

ईशान्य में स्थापित तिजोरी से धन का नाश होता है। आग्नेय में रखी तिजोरी से अनावश्यक खर्च होता है। नैऋत्य कोने की तिजोरी से आकस्मिक खर्च भी हो जाता है या धन के चोरी होने के सम्भावना रहती है। वायव्य दिशा में रखी तिजोरी में तो पैसा टिक ही नहीं सकता है ।

तिजोरी के कमरे में तिजोरी दक्षिण दीवार से बिलकुल मिलाकर नहीं वरन थोड़ा सा आगे रखनी चाहिए।  लेकिन यह आग्नेय और नैऋत्य कोनों को छोड़कर ही रखनी चाहिए। उसका पीछे का हिस्सा दक्षिण की दिवार की तरफ होना चाहिए एवं सामने का दरवाजा उत्तर दिशा की तरफ खुलना चाहिए।

तिजोरी के कमरे में सिर्फ एक ही प्रवेश द्वार होना चाहिए । यह प्रवेश द्वार उत्तर या पूर्व की तरफ ही होना चाहिए ।  इस कमरे में आग्नेय, नैऋत्य, वायव्य तथा दक्षिण दिशा में तो कभी भी दरवाजा नहीं होना चाहिए, अथवा उसे बंद कर देना चाहिए।

उत्तर की तरफ के दरवाजे के ठीक सामने तिजोरी नहीं रखनी चाहिए, इसे कुछ हटाकर रखना ही शुभ है।
तिजोरी का कमरा चौकोर या आयताकार होना अच्छा रहता है । इसकी ऊंचाई भी अन्य कमरों से कम नहीं होनी चाहिए। इस कमरे दहलीज़ होना शुभ होता है ।

तिजोरी के सामने भगवान की कोई तस्वीर ना लगाये । हाँ पूर्व या पश्चिम की दीवार पर चाहे तो तस्वीर टाँग सकते है।

तिजोरी के नीचे पाये अवश्य ही होने चाहिए। बिना पैर की तिजोरी / अलमारी में रखा पैसा टिकता नहीं है ।

घर की तिजोरी के दरवाजे पर कमल पर बैठी हुई तथा सफेद हाथियों के झुन्ड के अग्र भाग से नहलाई जाती हुई लक्ष्मी जी की तस्वीर लगाएं इससे घर में निरंतर धन की वृद्धि होती है।

तिजोरी में सुगंधित दृव्य या इत्र, परफ्यूम आदि नहीं रखने चाहिए।
कमरे में तिजोरी असमतल धरातल पर नहीं सपाट भाग पर ही रखी होने चाहिए । ध्यान रहे वह किसी भी दिशा में झुकी न हो। यदि ऐसा हो तो उसे हिलने से बचाने के लिए ईंट-पत्थर की जगह लकड़ी को सहारे के लिए लगाना चाहिए। तिजोरी के अंदर या ऊपर कुछ भी अनावश्यक वस्तुएं जैसे कपड़े, बर्तन, कापी-किताबें, फाइलें, पुराने अख़बार, लोहे की कोई भी वस्तुएँ कुछ भी कतई नहीं रखनी चाहिए। यदि तिजोरी के ऊपर कोई बोझ रखा जो तो उसे तुरंत हटा लें ।

तिजोरी के कमरे का रंग हल्का विशेषकर पीला रंग रखना बहुत शुभ होता है । ध्यान रहे इस कमरे का  रंग काला, लाल या नीला नहीं होना चाहिए। तिजोरी रखने के लिए  सोमवर, बुधवार , बृहस्पतिवार और शुक्रवार का दिन उत्तम रहता हैं। तिजोरी रखने के लिए श्रवण, धनिष्ठा, स्वाति, पुनर्वसु, शतभिषा, उत्तरा, रोहिणी नक्षत्र शुभ माने जाते हैं। इन दिनों में तिजोरी अथवा अलमारी में धन रखना आरम्भ करना उचित रहता है। इससे धन की लगातार वृद्धि होती है।

तिजोरी में लाल रंग का कपड़ा बिछाना शुभ रहता है । इसमें रोज़ सुबह शाम धूप,अगरबत्ती अवश्य दिखानी चाहिए,सभी शुभ मुहूर्तों विशेषकर हर माह के पुष्य नक्षत्र, नवरात्री,धनतेरस, दीपावली आदि में धन स्थान की पूजा निश्चित रूप से करनी चाहिए । मार्गशीर्ष महीने में प्रत्येक बृहस्पतिवार और शुक्रवार को भी तिजोरी की पूजा जरूर करनी चाहिए।

तिजोरी में शुभ यंत्र जैसे श्रीयंत्र, व्यापार वृद्धि यंत्र, महालक्ष्मी यंत्र, बीसा यंत्र या हत्था जोड़ी की लाल कपडे अथवा चाँदी की प्लेट में स्थापना करने से शुभता बनी रहती है।इन्हें रोज़ धूप अगरबत्ती अवश्य ही दिखाते रहे।

तिजोरी में कभी भी मुकदमें संबंधी कागजात धन,ज्वेलरी और मूल्यवान वस्तुओं के साथ नहीं रखें इससे धन की हानि होती है, धन व्यर्थ के कार्यों में खर्च होता जाता है। तिजोरी के अंदर या ऊपर कोई भी नुकीली और धारदार वस्तु, जैसे आलपिन, सुई, कैंची, चाकू आदि नहीं रखनी चाहिए, अन्यथा धन के सदैव दुरूपयोग होने की सम्भावना बनी रहती है ।

हर मंगलवार और शनिवार को तिजोरी के सामने घी का एक दीपक जलाकर उसमें एक लौंग रख दें। अगर तिजोरी के सामने दीपक को रखने के जगह ना हो तो दीपक जला कर तिजोरी की आरती करें फिर इसे घर के मंदिर में रख दें । मान्यता है की ऐसा करने से किसी की भी आपके धन कारोबार में नज़र नहीं लगती है और तिजोरी में धन का आगमन भी लगातार होता रहता है ।

जहाँ तक हो सके तिजोरी को बिना नहाए अथवा गंदे हाथों से बिलकुल भी ना खोलें । अगर संभव हो तो उसे जूते चप्पल पहन कर भी ना खोलें ।
तिजोरी के अंदर के दरवाज़े पर शीशा जरूर लगाएं जिसमें तिजोरी खोलते समय अंदर के धन का प्रतिबिम्ब भी नज़र आता रहे, इससे  वृद्धि होती है ।
तिजोरी किसी भी बीम के नीचे नहीं रखनी चाहिए। तिजोरी के किसी भी तरफ मकड़ी का जाला नहीं होना चाहिए। यह सब ऐसे छोटे छोटे किन्तु बहुत ही आसान से उपाय है जिन्हे करके हम अपने घर में स्थाई लक्ष्मी का वास करा सकते है ।

loading...

Check Also

जानिये क्योँ भवन निर्माण में रखना चाहिए इन 10 दिशाओ का विशेष ध्यान

भूखण्ड का चयन करते समय जिस प्रकार भू-स्वामी को वास्तु शास्त्र में वर्णित शुभाशुभ का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *