Home / वास्तु / मकान या फ्लैट की गैलेरी/अलमारी

मकान या फ्लैट की गैलेरी/अलमारी

मकान या फ्लैट की गैलेरी/अलमारी वास्तुशास्त्र के अनुसार
◆यदि भूखण्ड पूर्वोन्मुख है, तो गैलेरी उत्तर-पूर्व में उत्तर की ओर निर्धारित करें।
◆पश्चिम की ओर उन्मुख होने पर गैलेरी उत्तर-पश्चिम में पश्चिम की ओर रखें।
◆उत्तर की ओर भूखण्ड होने पर गैलेरी को उत्तर-पूर्व में उत्तर की ओर बनाना चाहिए।
◆भूखण्ड के दक्षिण की ओर उन्मुख होने पर गैलेरी दक्षिण पूर्व में दक्षिण दिशा में बनाई जानी चाहिए।
●मोटे तौर यह जान लेना चाहिए कि प्रात कालीन सूर्य का प्रकाश एवं प्राकृतिक हवा का प्रवेश मकान में बेरोक-टोक होता रहे। इसलिए आपकी बालकनी उसी के अनुसार होनी चाहिए।
●यह वायव्य कोण या ईशान एवं पूर्व दिशा में मध्य में रखें, तो ज्यादा उत्तम है। स्वागत हॉल में मेहमानों के बैठने का स्थान जैसे सोफा-फर्नीचर दक्षिण और पश्चिम दिशाओं की ओर रखें।
●बैठक के लिए उत्तर और पूर्व की ओर खुली जगह अधिक रखनी चाहिए। घर में अलमारी या लॉकर बनाने के लिए भी मुहूर्त देखना चाहिए।
●स्वाति, पुनर्वसु, श्रवण, घनिष्ठा, उत्तरा व पावार इस हेतु शुभ हैं और प्रथमा, द्वितीया, पंचमी, सप्तमी, दशमी, एकादशी, त्रयोदशी व पूर्णिमा तिथियाँ इस हेतु श्रेष्ठ हैं।
●अलमारी (विशेषतः लकड़ी वाली) यदि कहीं बहुत पतली या बहुत चौड़ी हो तो घर में अन्न-धन की कमी बनी रहती है।
●अतः सम चौड़ाई वाली अलमारी हो। तिरछी कटी अलमारी भी धन कमजोर करती है।
●जोड़ लगाया हुआ लॉकर या अलमारी घर में रखने पर कलह व शोक होता है।
●अलमारी या लॉकर आगे की तरफ झुकते हों तो गृहस्वामी घर से बाहर ही रहता है।
●अलमारी व लॉकर का मुख सदैव पूर्व या उत्तर की ओर खुले।
●अपने-2 धर्मनुसार विधिवत पूजन के बाद ही उसमें वस्तुएँ रखें व हर शुभ अवसर पर इष्ट देव के साथ लॉकर का भी पूजन करें। ताकि घर में बरकत बनी रहे।
उत्तम लाभ हेतु वास्तु अपनाये।
जय शिव

loading...

Check Also

जानिये क्योँ भवन निर्माण में रखना चाहिए इन 10 दिशाओ का विशेष ध्यान

भूखण्ड का चयन करते समय जिस प्रकार भू-स्वामी को वास्तु शास्त्र में वर्णित शुभाशुभ का …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *