_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"www.bhaktipravah.com","urls":{"Home":"http://www.bhaktipravah.com","Category":"","Archive":"http://www.bhaktipravah.com/2018/01/","Post":"http://www.bhaktipravah.com/jaaniye-samundra-tat-per-kiye-ja-sakne-wale-yoga/","Page":"http://www.bhaktipravah.com/homemag/","Attachment":"http://www.bhaktipravah.com/?attachment_id=8709","Nav_menu_item":"http://www.bhaktipravah.com/5131/","Wpcf7_contact_form":"http://www.bhaktipravah.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=4144"}}_ap_ufee
Home / ज्योतिष

ज्योतिष

जानिये क्या होती है बुध शनि की युति का फल

बुध शनि की युति अगर पहले भाव में हो तो या तो चेहरे पर कोई काला निशान जैसे गोल मस्सा होगा,लहसन का निसान होगा,या बहिन बुआ बेटी को अपना शरीर छुपाकर चलने की आदत होगी,अक्सर मर्यादा वाले घरों के अन्दर यह बात अधिक देखने के लिये मिलती है,बुध शनि की …

Read More »

जानिये गुरु ग्रह से बनने वाले विशिष्ट राजयोग

देवताओं के गुरु बृहस्पति माने जाते हैं। यह जन्म कुण्डली में विभिन्न भावों में, विभिन्न ग्रहों के साथ या दृष्ट हो तो कई महत्वपूर्ण राजयोग का निर्माण करता है एवं भिन्न-भिन्न प्रकार के राजयोग बनते हैं। यहाँ पर गुरु से बनने वाले मुख्य राजयोग दिए जा रहे हैं। मेष लग्न …

Read More »

जानिये पीपल का पेट काटने से हो सकते है यह नुक्सान

ज्यादा से ज्यादा वृक्ष लगाना और किसी भी वृक्ष को नुकसान न पहुंचाना हमारे देश की गौरवशाली परंपरा का एक अटूट अंग रहा है. धर्मशास्त्रों में कुछ पेड़ों के काटने की साफ मनाही है. ऐसे वृक्षों में पीपल का स्थान सबसे ऊपर है. पीपल को न काटने के पीछे कई …

Read More »

जानिये यह महाप्रलय हिन्दू धर्म के अनुसार

हम सभी जानते हैं कि हिन्दू धर्म संसार का सबसे प्राचीन प्रमाणिक धर्म है जिसमें वैज्ञानिक सिद्धांतो का समावेश प्राचीन ऋषि – मुनियों ने किया है। उसी एक सिद्धांत में महाप्रलय का भी वर्णन मिलता है। प्रलय का अर्थ होता है अपने मूल कारण प्रकृति में सर्वथा लीन हो जाना।कृति …

Read More »

जानिये नक्षत्र से स्वभाव निर्धारण के बारे में

नक्षत्र संख्या में 27 हैं और एक राशि ढाई नक्षत्र से बनती है। नक्षत्र भी जातक का स्वभाव निर्धारित करते हैं। 1. अश्विनी : बौद्धिक प्रगल्भता, संचालन शक्ति, चंचलता व चपलता इस जातक की विशेषता होती है। 2. भरणी : स्वार्थी वृत्ति, स्वकेंद्रित होना व स्वतंत्र निर्णय लेने में समर्थ …

Read More »

जानिये कैसे करे चंद्र देव को अनुकूल

1. कभी भी दूसरों से चांदी की वस्तु उपहार स्वरूप न लें । परन्तु चांदी की माला अपने माता, पिता या बहिन से उपहार स्वरूप ले सकते हैं । 2. साल में एक बार चांदी की वास्तु दान करें । 3. 21 सोमवार दूध का दान करें परन्तु स्वयं दूध …

Read More »

जानिये किन चीज़ों का नहीं करना चाहिए दान

पौराणिक समय से ही हम दान पुण्य का काम करते आयें है लेकिन ग्रंथों में और पुरानों में कुछ चीज़ों का दान करना बताया गया है वर्जित जिनको करने से आपको दुष्परिणाम भी मिल सकते है, यदि आप भी चाहते है की आपके घर में बरकत होती रहे हो धन …

Read More »

जानिये कैसे बने कुछ ही समय में लखपति

“लक्ष्मीस्थान त्रिकोणख्यं विष्णुस्थानतु केन्द्रकम। तयोस्सम्बन्धमात्रेण चक्रवर्ती भवेन्नर॥” अर्थात् त्रिकोण लक्ष्मी स्थान है, केन्द्र विष्णु स्थान है, इनके सम्बन्ध मात्र से नर चक्रवर्ती बनता है। अन्ततः कर्म का प्रथम उद्देश्य धनार्ज्रन होता है। सदा से ही सांसारिक जनों की अधिक से अधिक धन,समृधि प्राप्त करने की कामना होती है, स्वंय की …

Read More »

जानिये कौन से ग्रह से होता है कौन सा रोग

1. सूर्य : पित्त, वर्ण, जलन, उदर, सम्बन्धी रोग, रोग प्रतिरोधक क्षमता की कमी, न्यूरोलॉजी से सम्बन्धी रोग, नेत्र रोग, ह्रदय रोग, अस्थियों से सम्बन्धी रोग, कुष्ठ रोग, सिर के रोग, ज्वर, मूर्च्छा, रक्तस्त्राव, मिर्गी इत्यादि. 2. चन्द्रमा : ह्रदय एवं फेफड़े सम्बन्धी रोग, बायें नेत्र में विकार, अनिद्रा, अस्थमा, …

Read More »

जानिये क्या होते है कुंडली में ग्रहों के विशिष्ट प्रकार के योग

कुंडली के अनुसार व्यक्ति के भविष्य के बारे में बताया जाता है, मगर कुछ विशेष ग्रहों की युति होती है जिनका ज्ञान बहुत ही कम लोगों को होता है कुंडली में ग्रहों की स्थिति के अनुरूप मनीषियों ने इन्हें विशिष्ट योगों के नाम दिए हैं। 1. युति : दो ग्रह …

Read More »