_ap_ufes{"success":true,"siteUrl":"www.bhaktipravah.com","urls":{"Home":"http://www.bhaktipravah.com","Category":"","Archive":"http://www.bhaktipravah.com/2018/02/","Post":"http://www.bhaktipravah.com/shivratri-ka-mahatv/","Page":"http://www.bhaktipravah.com/homemag/","Attachment":"http://www.bhaktipravah.com/?attachment_id=9297","Nav_menu_item":"http://www.bhaktipravah.com/5131/","Wpcf7_contact_form":"http://www.bhaktipravah.com/?post_type=wpcf7_contact_form&p=4144"}}_ap_ufee
Home / वास्तु / जानिये कैसे बिना बदलाव किये मिटाएं घर का वास्तु दोष

जानिये कैसे बिना बदलाव किये मिटाएं घर का वास्तु दोष

आजकल के समय में समय और जगह के अभाव कर कारण लोग बिना सोचे-विचारे मकान बनवाने से उसमें कई प्रकार के वास्तु दोष आ जाते हैं। जिसका सीधा असर हमारे जीवन पर पड़ता है। वास्तु के अनुसार कुछ साधारण से परिवर्तन करके आप इन वास्तु दोषों को समाप्त कर सकते है, तो आइये जानते है वो साधारण उपाय…

1 यदि आपके घर की छत पर व्यर्थ या कोई भी फालतू का सामान पड़ा हो तो उसे वहां से हटा दें यदि आपको लगता है कोई काम का सामान है तो किसी जरुरतमन्द व्यक्ति को दे दें. ऐसा करने से परिवार में स्वस्थ्य संभंधि समस्याएं ख़त्म होने लगेगी.

2 प्लास्टर आदि उखड़ गया हो तो उसकी तत्काल मरम्मत करवा देंना चाहिए ऐसा करने से रिश्तों में आ रही दूरी दूर होती है.

3 आपकी रसोई के गेट के बिलकुल सामने यदि बाथरूम का गेट हो तो यह नकारात्मक ऊर्जा देगा। घर में सदस्यों को पेट से संभंधित रोग बने रहेंगे. इस दोष से बचने के लिए बाथरूम तथा रसोई के बीच में एक कपड़े का पर्दा या किसी अन्य प्रकार का पार्टीशन खड़ा कर सकते हैं ताकि रसोई से बाथरूम दिखाई न दे।

4 घर के दरवाजे व खिड़कियां खुलने व बंद होने पर आवाज करते हैं तो उनमें तेल डालें या उसकी मरम्मत अवश्य करवाएं, ऐसा करने से घर से नकारात्मक उर्जा बाहर चली जाएगी और घर में क्लेश नहीं होगा.

5 आग्नेय कोण में रसोई न होने पर गैस चूल्हे को रसोई के आग्नेय कोण में रखकर दोष का निवारण कर सकते हैं और यह भी नहीं सकते तो आग्नेय कोण में एक जीरो वाट का लाल बल्ब जलाकर भी इस दोष से बचा जा सकता है।

6 यदि ईशान में बोरिंग या अण्डर ग्राउंड टैंक आदि न बनवा सके हों तो ईशान में एक जल का कलश रख कर दोष का निवारण कर सकते हैं।

loading...

Check Also

क्या अर्थ होता है वास्तुशास्त्र का

वास्तुशास्त्र का अर्थ होता है चारों दिशाओं से मिलने वाली ऊर्जा तरंगों का संतुलन। यदि …