Home / स्वास्थय / जानिये मोटापे से होने वाली खतरनाक बिमारिओं के बारे में

जानिये मोटापे से होने वाली खतरनाक बिमारिओं के बारे में

आज के समय में अधिक वजन और मोटापा मधुमेह, हृदय रोग और कुछ कैंसर सहित कई स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ता चला जा रहा है जिसकी वजह से अधिक वजन और कई स्वास्थ्य स्थितियां बहुत बिगडती जा रही है मगर आप कैसे इन सब से निजात पा सकते है कि सामान्य वजन बनाए रखने से आपको उम्र बढ़ने के साथ स्वस्थ रहने में मदद मिलती है।

स्लीप एपनिया और अवसाद

स्लीप एपनिया और अवसाद

अधिक वजन से स्लीप एपनिया बनता है जो आगे अवसाद की ओर जाता है। जिस व्यक्ति को स्लीप एपनिया है, वह नींद से पीड़ित हो सकता है। इसके अलावा ध्यान केंद्रित करने में कठिनाई हो सकती है, और यहां तक कि दिल की विफलता और अवसाद भी होता है।

अधिक वजन वाले व्यक्ति की गर्दन के चारों ओर अधिक वसा जमा होती है। इससे सांस की नली छोटी हो जाती है। खर्राटों की वजह से सांस लेने में मुश्किल या ज़ोर लगता है। इसके अलावा, गर्दन में और पूरे शरीर में जमा होने वाली वसा सूजन पैदा करने वाले पदार्थों का उत्पादन करती है। वज़न कम करने से आमतौर पर स्लीप एपनिया में सुधार होता है। वजन घटाने से गर्दन का आकार कम होता है और सूजन कम होती है।

मोटापे से कैंसर

मोटापा बड़ी आंत के कैंसर, बूढ़ी महिलाओं में मोनोपॉज के बाद स्तन कैंसर, एंडोमेट्रियम- गर्भाशय का कैंसर से जुड़ा हुआ है। कुछ अध्ययनों से यह भी पता चला है कि मोटापे और पित्ताशय की थैली, अंडाशय और अग्न्याशय के कैंसर के विभिन्न रोग आपस में एक दूसरे से जुड़े हुए है। वजन के बढ़ने से कैंसर का खतरा भी बढ़ सकता है। स्वस्थ भोजन और शारीरिक गतिविधि, कैंसर का खतरा कम करती है। वजन घटाने से आपके कैंसर का खतरा भी कम होता है।

मोटापे से ग्रस्त लोगों में मधुमेह

मोटापे से ग्रस्त लोगों में मधुमेह

अधिकतर मोटापे से ग्रस्त लोगों में टाइप-2 मधुमेह होता है। आप अपना अतिरिक्त भार कम करके, पोषक तत्व समृद्ध संतुलित आहार खाकर, पर्याप्त नींद लेकर और नियमित सैर या कसरत से टाइप-2 डायबिटीज विकसित करने के अपने जोखिमों को कम कर सकते हैं। यदि आप टाइप-2 मधुमेह से ग्रस्त है। तो वजन कम करना और शारीरिक रूप से अधिक सक्रिय होना, आपके उच्च रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करने में मदद करता है।

हृदय रोग और स्ट्रोक

हृदय रोग और स्ट्रोक

अतिरिक्त वजन से आपको उच्च रक्तचाप और उच्च कोलेस्ट्रॉल होने की अधिक संभावना होती है। इन दोनों स्थितियों में हृदय रोग और मस्तिष्क के स्ट्रोक की संभावना अधिक होती है। स्ट्रोक तब होता है जब आपके मस्तिष्क के एक हिस्से को खून का प्रवाह बंद हो जाता है। जिससे मस्तिष्क की कोशिकाएँ मर जाती है। स्ट्रोक का सबसे आम प्रकार इस्किमिक स्ट्रोक है, जो तब होता है जब मस्तिष्क को रक्त देने वाली धमनी को एक रक्त का थक्का ब्लॉक करता है।

हेमरेजिक स्ट्रोक एक अन्य प्रकार का स्ट्रोक होता है, जिसमें उच्च रक्तचाप के कारण मस्तिष्क में एक रक्त वाहिका फट जाती है। अच्छी खबर यह है कि वजन कम करने से हृदय रोग और मस्तिष्क के स्ट्रोक विकसित होने की संभावना कम हो सकती है। अपने वजन का 5 फीसदी -10 फीसदी वजन कम करने से आप में हृदय रोग के विकास की संभावना कम होती है।

जीवनकाल

मोटापे के साथ रोगियों के जीवन में कई बीमारियां होती हैं। यह ऑस्टियोआर्थराइटिस, किडनी की समस्याएं, शरीर में दर्द और ज्यादा उम्र के रोगियों के चलने और खड़े होने में समस्या करता है। इस प्रकार वजन पर बुरी तरह से जीवन को प्रभावित करता है। इसलिए, रोगियों को स्वस्थ जीवन शैली और नियमित व्यायाम के साथ वजन कम करने की आवश्यकता है।

loading...

Check Also

अगर आप भी डायबिटीज से है परेशान तो जानिये क्या खाये और क्या नहीं

आज के समय में डायबिटीज होना कोई बड़ी बात है नहीं रिसर्च के मुताबिक 100 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *