Home / छोटे छोटे उपाय / अस्वस्थ और परेशान है तो रसोई घर पर दें ध्यान

अस्वस्थ और परेशान है तो रसोई घर पर दें ध्यान

रसोईघर का घर में अत्यंत महत्व है । यदि उसमें कोई दोष हो तो घर के सदस्य अक्सरहां अस्वस्थ और परेशान रहते हैं , सदस्यों के बीच अनबन रहती है और धन – सम्पत्ति की भी बरक्कत नहीं हो पाती ।

अतः प्रत्येक घर के मालिक को इस पर विशेष ध्यान देना चाहिए और यथासम्भव इन उपायों को अपना कर जीवन में आनन्द प्राप्त करने का प्रयास करना चाहिए :-
1. चूल्हे को सदैव रसोईघर के आग्नेयकोण ( पूर्व – दक्षिण कोण ) में ही रखना चाहिए ।

2. भोजन को बनाते समय उसे बनानेवाले का मुख पूरब की रहना चाहिए ।

3. रसोई घर को सदैव आग्नेयकोण में ही बनवाना चाहिए ।
यदि यह सम्भव नहीं हो तो वायव्य कोण ( उत्तर पश्चिम कोण )में इसे रखें ।

लेकिन आज की परिस्थिति में , जब कि लोगों को बिल्डर द्वारा बनाया घर , अपार्टमेंट आदि खरीद कर रहना पड़ता है , सब जगह यह सम्भव नहीं हो पाता है ।

ऐसी स्थिति में रसोईघर के अग्नेयकोण में एक लाल बिजली का बल्ब जलाना चाहिए और भोजन बनाने से पूर्व अग्निदेव से प्रार्थना करनी चाहिए “हे अग्निदेव ! हे विष्णु भगवान् ! मैं मजबूरी में सही स्थान पर भोजन नहीं बना पा रहा हूँ ,कृपाकर मुझे क्षमा करेंगे ।”

4. रसोईघर में पानी को आग्नेय कोण में न रखें और चूल्हे से उसको यथासम्भव दूर ही रखें ।

5. जो व्यक्ति भोजन बनाता है उसके ठीक पीछे दरवाजा न हो । यदि ऐसा है तो उस व्यक्ति को थोड़ा इधर- उधर हो जाना चाहिए , यदि यह संभव हो तो ।

6. रसोई घर में पूजा का स्थान नहीं बनाना चाहिए । यदि यह सम्भव न हो तो वहाँ भगवान् का चित्र आदि न रखें ।

7. यदि सम्भव हो तो रसोईघर में ही भोजन करना चाहिए । यदि ऐसा न हो सके तो ऐसी जगह बैठकर भोजन करना चाहिए जहाँ से चूल्हे की आग दिखती हो ।

8. यदि संभव हो तो रसोईघर में पूर्व की ओर खिड़की या रौशनदान बनवावें ।

9. भोजन बनाने के बाद उसे भगवान् का भोग समझ कर उन्हें अर्पित कर दें और फिर प्रसाद मानकर स्वयं भोजन करना चाहिए ।

10. भोजन करने के बाद मन ही मन अग्निदेव और अन्नपूर्णा माता को धन्यबाद दें ।

11. भूलकर भी भोजन की निंदा न करें ।

loading...

Check Also

जानिये क्योँ बोलने से पहले हज़ार बार सोचना चाहिए हर इंसान को, जरूर पढ़ें

अक्सर छोटी छोटी बातों पर गुस्सा करना मनुष्य की प्रवृति है। और गुस्से में किसी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *